मंगलवार, 1 जून 2010

ज़मीन....

ना जाने कितनी उड़ाने भरकर...
नर्म हाथों से सख्त पैरों से
खोद डाला है आसमां सारा...
शायद इसमें ज़मीन हो मेरी....

14 टिप्‍पणियां:

देव कुमार झा ने कहा…

खोद डाला है आसमां सारा...
शायद इसमें ज़मीन हो मेरी...


बहुत अच्छी भावना...

Udan Tashtari ने कहा…

वाह! बहुत गहरे!!

Shekhar Kumawat ने कहा…

bahut achha laga pad kar bahut khub

http://kavyawani.blogspot.com/

दिलीप ने कहा…

badi gehri baat

Dankiya ने कहा…

dev ji, sameer ji,shakhar ji,aur dulip bhai...bahut bahut dhanywad !!

Dankiya ने कहा…

dev ji, sameer ji,shakhar ji,aur dulip bhai...bahut bahut dhanywad !!

rashmi ने कहा…

zameen wakai zameen se judi kavita.

राजेन्द्र मीणा ने कहा…

बहुत गहरे भाव लिए है मित्र ,,,,कम शब्दों में सार्थक रचना इसे ही कहते है ...बहुत बहुत बधाई

Dankiya ने कहा…

dhanywad rajendra ji..!!

yashvi ने कहा…

shayad yaha ho meri manzil ya mera aashiyana......
khod dala hai aasmaan saarraa......

yashvi ने कहा…

hey i luv ur blog..... its vry interesting...

yashvi ने कहा…

thank you....

Dankiya ने कहा…

thanks yashvi..

Dankiya ने कहा…

thanks yashvi..