गुरुवार, 10 जून 2010

माँ खुशियों की नज़र उतार...

वक़्त पड़ा कबसे बीमार
माँ खुशियों की नज़र उतार

खट्टी चटनी लोंजी गुम
केचप में खो गया अचार


हसरत बनती गयीं ज़रूरत
हर हफ्ते चढ़ गया उधार

पहली को बच्चे मुस्काए
पंद्रह को चुक गयी पगार

10 टिप्‍पणियां:

Jandunia ने कहा…

इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

adwet ने कहा…

sahi kaha aapne sab kho gaya hai.

दिलीप ने कहा…

खट्टी चटनी लोंजी गुम
केचप में खो गया अचार

waah sirji sach kaha ...

देव कुमार झा ने कहा…

वाकई जो दिलीप कह गये उसी लाईन को हम भी पकडेंगे...

खट्टी चटनी लोंजी गुम
केचप में खो गया अचार

बहुत खूब...

संजय भास्कर ने कहा…

u r right sirji

Udan Tashtari ने कहा…

कितना सच सच!!


बेहतरीन रचना!

शोभित जैन ने कहा…

खट्टी चटनी लोंजी गुम
केचप में खो गया अचार

kya khoob kaha hai bhai...

Dankiya ने कहा…

dhanywad..

Rohit Jhansiwale ने कहा…

kya kahu....samajh nahi aa raha.

jab maine pahli baar ye padha, sabse pahli line hi seedhe dil me utar gayi. waqt pada kabse bimar, maa khushiyo ki nazar utaar.
BAHUT BADHIYA - bus itna hi bol sakta hun. ye padhkar mere dil me jo bhaav hain mai unhe kagaz per nahi utaar sakta. an kahe shabdo ko shayad aap samajh gaye honge dada.

umda.....:)

Dankiya ने कहा…

dhanywad Rohit...

khomishi khud apni sada ho aisa bhi ho sakta hai,
sannata bhi bol raha ho aisa bhi ho sakta hai...!!
ankahi bhi pahunchti hai..Dil tak..!!