रविवार, 11 अक्तूबर 2009


चूल्हे और आंगन की बातें....
चूल्हे और आंगन की बातें !
याद आई बचपन की बातें  !!

तेरा मिलना इस जीवन में !
जेसे दूर गगन की बातें !!

जाने केसे सुन लेता हूँ !
इसके उसके मन की बातें !!

भल भल आंसू भेज रहा है!
जो करता दमन की बातें !!

भूके पेट की प्रहरिक किश्तें !
आँखों से बर्तन की बातें !!

फिरकी,लट्टू,बन्दर भालू !
सबसे अपनेपन की बातें !!

आँखों में मेंहदी रच जाये !
हाथों में जब खनकी  बातें !!

जीना मुश्किल हो जायेगा !
मत समझो जीवन की बातें !!





10 टिप्‍पणियां:

ललित शर्मा ने कहा…

ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं, लेखन कार्य के लिए बधाई
यहाँ भी आयें आपका स्वागत है,
http://lalitdotcom.blogspot.com
http://lalitvani.blogspot.com
http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
http://ekloharki.blogspot.com
http://adahakegoth.blogspot.com
http://www.gurturgoth.com
http://arambh.blogspot.com
http://alpanakegreeting.blogspot.com

Amit K Sagar ने कहा…

चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. आप बहुत अच्छा लिख रहे हैं. लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
---

हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

पटिये ने कहा…

aapki gazal baat sae baat nikal rahi hai....bachapan ki baaten..,man ki baaten...,door gagan ki jiwan ki baaten...bahut khoob sudhir babu.

Dankiya ने कहा…

dhanyawad Lalit ji..!!!

Dankiya ने कहा…

Amit ji..shubhkamnaon ke liye sadhuwad...is dankiye ke chittha jagat
mein pravesh..ke liye bhi!!!

Dankiya ने कहा…

Dhanyawad shefali..!!!

शशांक शुक्ला ने कहा…

सुंदर कविता है आपकी

Dankiya ने कहा…

shukruya shashank..!!!

नारदमुनि ने कहा…

man bhavan.narayan narayan

Dankiya ने कहा…

Dhanywad MuniShri...