मंगलवार, 1 दिसंबर 2009



जब मेरी बेजुबान आँखों पर,
 तुमने रक्खे थे अजनबी अल्फाज़

और मेरी खामोश पलकों पर,
एक आवाज़ छलछलाई थी..

अपने हाथों की कुछ की कुछ लकीरें भी,
छोड़ आयीं थीं मेरे हाथों में...
राह में, साहिलों पे गलियों में,
ढूंढ़ता हूँ वो हमज़बाँ नज़रें..
                                                       रात-बेरात अब मेरी आँखें
                                                       नींद में रोज़ बडबड़ाती हैं...

3 टिप्‍पणियां:

पटिये ने कहा…

apne hathon ki kuch lakiren bhi,chod aayi thi mere hatho mae....bahut khoob,lagta hai jaise kisi naujawaan gulzaar sae mukhatib hain.

somyaa ने कहा…

Alankrit rachna hai... achhi hai :)
mera blog visit karne aur itne sunder comment ke liye thanks ...
Keep writing !

चण्डीदत्त शुक्ल ने कहा…

बहुत सुंदर लिखा सुधीर. ईमानदारी के साथ दिल की बात...बिना अवरोध के. वाह, ऐसे ही लिखते रहो बंधु और जीते रहो जीवन...हर रंग के साथ.